Mon-Fri On Appointments Sat-Sun 14:00 - 18:00 | support@brahmyoga.org | +91 959 996 1008

A Son Took His Old Father To A Nice Restaurant for Dinner

एक बेटा अपने वृद्ध पिता को रात्रि भोज के लिए एक अच्छे रेस्टॉरेंट में लेकर गया।

खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ों पर गिराया।

रेस्टॉरेंट में बैठे दुसरे खाना खा रहे लोग वृद्ध को घृणा की नजरों से देख रहे थे लेकिन वृद्ध का बेटा शांत था।

खाने के बाद बिना किसी शर्म के बेटा, वृद्ध को वॉश रूम ले गया। उसके कपड़े साफ़ किये, उसका चेहरा साफ़ किया, उसके बालों में कंघी की,चश्मा पहनाया और फिर बाहर लाया।

सभी लोग खामोशी से उन्हें ही देख रहे थे।बेटे ने बिल पे किया और वृद्ध के साथ

बाहर जाने लगा।

तभी डिनर कर रहे एक अन्य वृद्ध ने बेटे को आवाज दी और उससे पूछा ” क्या तुम्हे नहीं लगता कि यहाँ

अपने पीछे तुम कुछ छोड़ कर जा रहे हो ?? “

बेटे ने जवाब दिया” नहीं सर, मैं कुछ भी छोड़ कर

नहीं जा रहा। “

वृद्ध ने कहा ” बेटे, तुम यहाँ

छोड़ कर जा रहे हो,

प्रत्येक पुत्र के लिए एक शिक्षा (सबक) और प्रत्येक पिता के लिए उम्मीद (आशा)। “

दोस्तो आमतौर पर हम लोग अपने बुजुर्ग माता पिता को अपने साथ बाहर ले जाना पसँद नही करते

और कहते है क्या करोगो आप से चला तो जाता

नही ठीक से खाया भी नही जाता आपतो घर पर ही रहो वही अच्छा होगा.

क्या आप भूल गये जब आप छोटे थे और आप के माता पिता आप को अपनी गोद मे उठा कर ले जाया

करते थे,

आप जब ठीक से खा नही

पाते थे तो माँ आपको अपने हाथ से खाना खिलाती थी और खाना गिर जाने पर डाँट नही प्यार जताती थी

फिर वही माँ बाप बुढापे मे बोझ क्यो लगने लगते है???

माँ बाप भगवान का रूप होते है उनकी सेवा कीजिये और प्यार दीजिये…

क्योकि एक दिन आप भी बुढे होगे फिर अपने बच्चो से सेवा की उम्मीद मत करना.

सदगुरु ब्रह्मऋषि गीतानन्द जी कहते हैं कि

मात पिता गुरुदेव की, कर सेवा चित लाय।

चौथे भज भगवान को, चौरासी कट जाय।।

 

Let’s walk together and initiate a golden era…

www.geetanandashram@gmail.com

+91 9599961008

 

A son took his old father to a nice restaurant for dinner.

The old father dropped food on his clothes several times while eating.

People eating other food in the restaurant were looking at the old man with hate but the old man’s son was quiet.

After eating without any shame son took the old man to the washroom. Cleaned her clothes, cleaned her face, combed her hair, put glasses on and then brought out.

Everyone was watching them silently. Son paid the bill and with the old man

Started going out.

Then another old man who was having dinner called his son and asked him ′′ don’t you think here

You’re leaving something behind you?? ′′

Son replied ′′ No sir, I leave anything

Not going to. ′′ I’m going to be

The old man said ′′ Son, you here

You are leaving me,

A lesson for every son and hope for every father. ′′ I’m going to be

Friends, usually we don’t like to take our elderly parents out with us.

And they say what will you do, if you go away, it would have gone.

No, you can’t even eat properly, you stay at home, it will be good.

Did you forget when you were little and your parents took you in their lap

Used to do,

When you don’t eat properly

When I found you, mother used to feed you with her hand and when the food fell, she used to show love not scolding.

Then why do the same parents seem to be a burden in old age???

Parents are the form of God. Serve them and give them love…

Because one day you will also become old, then don’t expect service from your children.

Sadguru Brahma Rishi Geetanand ji says that

Mother and father are of Gurudev, they bring your heart to service.

Fourth bhaj to God, fourteen should be cut. ।

Let’s walk together and initiate a golden era…

www.geetanandashram@gmail.com